लिंग का खड़ा ना होना

यह सुनते ही कुछ लोगों के रोंगटे खड़े हो जाते हैं जिनके पास बहुत अच्छी गर्लफ्रेंड है या उनकी जल्द ही शादी होने वाली हैं और उनको खुश नही कर पाते हैं.

नमस्कार दोस्तों,
मुझे उम्मीद है कि सब लोग कुशल-मंगल होंगे.
आज मैं एक मुद्दे पर Discussion करूँगा और वो मुद्दा है “लिंग का खड़ा ना होना

आज के समय में सबसे बड़ी कोई सेक्स समस्या है तो वो है: लिंग का खड़ा ना होना. हमारे पास रोजाना 100-200 लोगों का यह सवाल होता है कि लिंग का खड़ा ना होने की समस्या क्यों आती हैं और इस समस्या का छुटकारा पाने का सबसे सुरक्षित और असरदार इलाज क्या है??

हर मर्द चाहता है कि वह अपनी साथी को भरपूर प्यार दें और उसको खुश रखें और वह अपने साथी को खुश करने के लिए हरसंभव प्रयास करता है जो वह कर सकता है. आज के समय में युवा लोग तनाव और खानपान की वजह से कई सेक्स बीमारियों से जूझ रहें हैं और उन सब बीमारियों में से एक है लिंग का खड़ा ना होना. आज के समय करीब 25% युवा लिंग का खड़ा ना होने की बीमारी से परेशान है और आज हम इस बीमारी के बारे में गहराई से बात करेंगे.

सबसे पहले हम बात करते हैं कि लिंग का खड़ा ना होने के क्या लक्षण है ???

  • सेक्स की कल्पना करने पर लिंग में तनाव ना होना
  • सेक्स शुरू करते ही लिंग का तनाव ख़त्म हो जाना
  • पार्ट्नर को छूते ही लिंग का तनाव ख़त्म हो जाना
  • सेक्स के समय लिंग का योनि में प्रवेश कराते ही लिंग का ढीला पड़ जाना
  • सेक्स करते समय लिंग का फुल साइज़ ना बनना
  • सेक्स करते समय लिंग का सख़्त ना होना
  • सेक्स करते समय बीच में ही लिंग का ढीला पड़ जाना
  • आलिंगन (FOREPLAY) करने पर भी लिंग में तनाव ना होना
  • हस्तमैथुन करते समय लिंग में तनाव ना आना
  • एक बार सेक्स करने के बाद लिंग में दोबारा तनाव ना आना
  • एक बार सेक्स करने के बाद काफ़ी देर तक लिंग का तैयार ना होना
  • लिंग का फुल सख़्त ना होना
  • तनाव के समय लिंग की कैप का ना खुलना

आइए अब हम बात करते हैं कि सेक्स के समय लिंग कैसे खड़ा होता है और लिंग का खड़ा होना किन-किन बात पर निर्भर करता है??

सेक्स के दौरान लिंग का खड़ा होना और सख़्त होना टेस्टोस्टेरोन (testosterone) का स्तर, लिंग की नसों और दिमागी संतुलन पर ही निर्भर करता है.

आइए जानते है कि टेस्टोस्टेरोन कैसे काम करता है और सेक्स में टेस्टोस्टेरोन की क्या भूमिका है??

टेस्टोस्टेरोन एक पुरुष सेक्स हार्मोन है जो पुरुषों में उनके वृषण और एड्रेनल ग्लैंड में बड़ी मात्रा में बनाया जाता है. टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का कार्य है सेक्स के समय शरीर में ब्लड सर्क्युलेशन को बढ़ाना. यह हार्मोन सेक्स के समय पूरे शरीर में ब्लड सर्क्युलेशन को बढ़ा देता है. सेक्स के समय लिंग का खड़ा होना इस बात पर निर्भर करता है कि आपका टेस्टोस्टेरोन का स्तर क्या है. टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का स्तर आपको सेक्स का भरपूर आनंद दिलाता है

एक सामान्य इंसान में सामान्य टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का स्तर 300-1000 (NG/Dl) नैनोग्राम प्रति डेसीलीटर है।

 लिंग की नसें कैसी होती है और क्या काम करती है और कैसे काम करती है ??

एक स्वस्थ इंसान के लिंग में 50 से 60 हज़ार छोटी- छोटी नसें होती है जो धागे जैसी बहुत ही बारिक होती है. एक इंसान के द्वारा सेक्स करने के लिए इन नसों का सही से कार्य करना बहुत ज़रूरी होता है इन नसों के सही नही होने की अवस्था में सेक्स की कल्पना करना भी असंभव है. सेक्स के दौरान लिंग का खड़ा होना और सख़्त होना काफ़ी हद तक इन नसों पर ही निर्भर करता है. सेक्स करने के लिए जब मर्द औरत के साथ संपर्क में आता है तो उत्तेजना से टेसटेसटेरॉन हारमोन एक्टिव हो जाता है. टेसटेसटेरॉन हारमोन का कार्य है शरीर में ब्लड सर्क्युलेशन को बढ़ाना.

यह हारमोन पूरे शरीर में ब्लड सर्क्युलेशन को बढ़ा देता है और जब लिंग की नसों में यह ब्लड का सर्क्युलेशन पहुँचता है तो लिंग की नसें ब्लड सर्क्युलेशन से फूल जाती है और आपका लिंग भी खड़ा हो जाता है. इस दौरान आपके लिंग का साइज़ भी नॉर्मल साइज़ का तीन गुना हो जाता है. सेक्स के दौरान आपके लिंग का खड़ा होना इस बात पर निर्भर करता है कि आपके लिंग की नसों में कितना ब्लड सर्क्युलेट हो रहा है. सेक्स के दौरान आपके लिंग का सख़्त होना इस बात पर निर्भर करता है कि आपके लिंग की नसों में कितनी तेज़ी से ब्लड सर्क्युलेट हो रहा है. लिंग में जितना ज़्यादा और जितना तेज़ी से आपका ब्लड सर्क्युलेट होगा, आपके लिंग का साइज़ उतना ही बड़ा होगा और उतना ही सख़्त होगा

लिंग की नसों की कमज़ोरी के बारें में ज़्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें लिंग की नसों का कमजोर होना

आइए जानते है कि सेक्स के दौरान लिंग का खड़ा होने में दिमागी संतुलन कैसे काम करता है??

सेक्स के दौरान आपका दिमाग़ जितना संतुलित और शांत होगा, आपका टेस्टोस्टेरोन का स्तर उतना ही अच्छा होगा. टेस्टोस्टेरोन का स्तर काफ़ी हद तक दिमाग़ की अवस्था पर निर्भर करता है. सेक्स का फुल आनंद लेने के लिए आपके दिमाग़ का फोकस सेक्स पर होना बहुत ज़रूरी है

लिंग का खड़ा ना होना या लिंग का सही तरीके से खड़ा ना होने के क्या-क्या कारण है??

  • लिंग का और लिंग की नसों का कमजोर होना
  • बहुत अधिक हस्तमैथुन करना
  • गुदामैथुन या पुरुष के साथ सेक्स करना
  • शराब का अधिक सेवन करना
  • अत्यधिक धूम्रपान करना
  • नशीली दवाओं और स्टेराइड्स का सेवन करना
  • सेक्श्वर्धक दवाओं का अधिक इस्तेमाल करना
  • बहुत अधिक शारीरिक श्रम करना
  • पौष्टिक भोजन की कमी से शारीरिक कमज़ोरी
  • टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होना
  • हृदय रोगों का होना
  • मधुमेह (DIABETES) का होना
  • कोलेस्ट्रॉल का अधिक रहना
  • बहुत अधिक तनाव में रहना
  • शरीर का कमजोर होना
  • नसों में ब्लॉकेज होना
  • दिमागी संतुलन का सही ना होना

अगर आप लिंग का खड़ा ना होना की बीमारी से परेशान है तो आपको घबराने की ज़रूरत नही है. आपको अपनी दैनिक दिनचर्या को थोड़ा बदलना होगा:

  • सुबह जल्दी उठें और घूमने जायें और तनावमुक्त रहें.
  • सुबह-शाम EXERCISE करें और पौष्टिक भोजन लें.
  • टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का स्तर चैक करवायें. अगर टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम है तो किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर से इलाज करवायें
अमूल्य आरोग्य ने लिंग का खड़ा ना होना का होना आयुर्वेदिक और सुरक्षित ईलाज के लिए किट तैयार की है जिसमें Exercise, योग, मसाज और दवा के उपयोग से 30 दिन के अंदर आप इस बीमारी से हमेशा के लिए छुटकारा पा सकते हैं और सेक्स लाइफ का आनंद ले सकते हैं

अगर आपको कोई भी कैसी भी और कितनी भी पुरानी सेक्स समस्या हो और आप अपनी सेक्स लाइफ को Enjoy नही कर पा रहें तो आप कभी भी किसी भी समय Dr. CM Garg को Contact करने के लिए 9729902804 (Whatsapp Also) पर पर कॉल कर समय ले सकते हैं या अपनी समस्या के बारें में लिखकर cmgarg@nightfalltreatment.in पर Mail भी कर सकते हैं और समाधान पा सकते हैं.
सेक्स को अच्छे से एंजाय करना आपके और आपके जीवनसाथी के लिए मजबूरी ही नही चाहत भी है और जीवन की खुशियों का और आपसी संतुष्टि का एक कारण भी है