टेस्टोस्टेरोन लेवल कम होना यह सुनते ही कुछ लोगों के रोंगटे खड़े हो जाते हैं जिनके पास बहुत अच्छी गर्लफ्रेंड है या उनकी जल्द ही शादी होने वाली हैं और उनको खुश नही कर पाते हैं

नमस्कार दोस्तों,
मुझे उम्मीद है कि सब लोग कुशल-मंगल होंगे.
आज मैं एक मुद्दे पर Discussion करूँगा और वो मुद्दा है “टेस्टोस्टेरोन लेवल कम होना

आज के समय की सेक्स कमज़ोरियों मे से एक कमज़ोरी है:: टेस्टोस्टेरोन लेवल कम होना. हमारे पास रोजाना 100-200 लोगों का यह सवाल होता है कि टेस्टोस्टेरोन लेवल कम होने की समस्या क्यों आती हैं और इस समस्या का छुटकारा पाने का सबसे सुरक्षित और असरदार इलाज क्या है??

हर मर्द चाहता है कि वह अपनी साथी को भरपूर प्यार दें और उसको खुश रखें. और वह अपने साथी को खुश करने के लिए हरसंभव प्रयास करता है जो वह कर सकता है. आज के समय में युवा लोग तनाव और खानपान की वजह से कई सेक्स बीमारियों से जूझ रहें हैं और उन सब बीमारियों में से एक है टेस्टोस्टेरोन लेवल कम होना. आज के समय करीब 10-15% युवा टेस्टोस्टेरोन लेवल कम होने की बीमारी से परेशान है और आज हम इस बीमारी के बारे में गहराई से बात करेंगे

सबसे पहले हम बात करते हैं कि टेस्टोस्टेरोन क्या है?? यह कैसे काम करता है और सेक्स में टेस्टोस्टेरोन की क्या भूमिका है??


टेस्टोस्टेरोन एक पुरुष सेक्स हार्मोन है जो पुरुषों में उनके वृषण और एड्रेनल ग्लैंड में बड़ी मात्रा में बनाया जाता है. टेस्टोस्टेरोन आपकी सेक्स ड्राइव का ईंधन होता है जो आपकी बॉडी को सेक्स के लिए तैयार करता है. एक व्यक्ति के शरीर में टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन 14-15 वर्ष की आयु में शुरू होता है और 30-32 की आयु तक उच्च स्तर पर उत्पादन होता है और फिर उम्र बढ़ने के साथ-साथ टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन कम होने लगता है. टेस्टोस्टेरोन का लेवल गिरने का मतलब है आपकी जवानी का ढलना शुरू होना.

टेस्टोस्टेरोन का काम है ; शरीर में रक्त का संचरण करना, यौन शक्ति का विकास, मासपेशियों में में ताक़त बनाए रखना, शरीर में उर्जा का स्तर बनाये रखना और सेक्स की इच्छा के लिए मूड तैयार करना.

सेक्स में टेस्टोस्टेरोन की भूमिका


टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का कार्य है संभोग के समय शरीर में ब्लड सर्क्युलेशन को बढ़ाना. जब एक इंसान सेक्स करने के लिए जब अपने पार्ट्नर के शारीरिक संपर्क में आता है तब टेस्टोस्टेरोन हार्मोन एक्टिव हो जाता है और पूरे शरीर में ब्लड का सर्क्युलेशन बढ़ा देता है और और लिंग संभोग के लिए तैयार हो जाता है. आप अपने साथी के साथ सेक्स का कितना आनंद लेते हो, यह आपके टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के लेवल पर निर्भर करता है. टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के बिना सेक्स के आनंद की कल्पना करना भी बेकार है.

शरीर में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का लेवल


इंसान में सामान्य टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का लेवल 300-1000 (NG/Dl) नैनोग्राम प्रति डेसीलीटर है। अगर आपके शरीर में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का लेवल 300 (NG/Dl) से कम है तो आपको टेस्टोस्टेरोन का लेवल सुधारने की ज़रूरत है. टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का लेवल हर समय एक जैसा नही रहता. इंसान में टेस्टोस्टेरोन का लेवल रात को 01:00 बजे के आसपास सबसे कम रहता है और सुबह 6:00 बजे सबसे ज़्यादा रहता है. यही कारण है कि जब हम सुबह जागते हैं तो हमारे पेनिस में तनाव होता है यह तनाव टेस्टोस्टेरोन का लेवल ज़्यादा होने की वजह से ही होता है.

आइए हम बात करते हैं कि टेस्टोस्टेरोन का लेवल कम होने के क्या लक्ष्ण है ????


आइए जानते है कि किन -किन कारणों से शरीर में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का लेवल कम हो जाता है


  • बहुत अधिक समय तक तनाव में रहने से टेस्टोस्टेरोन का लेवल कम हो जाता है
  • लंबे समय तक इंसुलिन, केंसर और डायबिटीज की दवा का सेवन
  • फास्ट फूड, शराब और नशीली दवाओं का अत्यधिक सेवन
  • सुबह लेट तक सोने की आदत
  • सेक्स दवाओं और स्टेरॉइड का अत्यधिक सेवन
  • कोलेस्ट्रॉल का लेवल अधिक होना
  • देर रात तक जागना
  • शारीरिक अभ्यास Exercise की कमी होना
  • अंडकोष का अविकसित होना
  • शरीर में आयरन की अधिकता होना
  • अधिक फैट का भोजन करना

टेस्टोस्टेरोन लेवल चेक कराने का सही तरीका


जितने लोग टेस्टोस्टेरोन लेवल चेक करवाते है, उनमें 80% रिपोर्ट सही नही होती और परेशान होकर उपचार लेना शुरू कर देते हैं. यदि टेस्टोस्टेरोन लेवल कम लग रहा है तो आप सही तरीके से लेवल चेक करवायें. जैसा मैनें यहाँ लिखा है कि टेस्टोस्टेरोन लेवल हर समय एक जैसा नही रहता. शरीर में टेस्टोस्टेरोन रात में कम होता है तो सुबह में ज़्यादा होता है. टेस्टोस्टेरोन का सही लेवल पता करने के लिये आपको तीन टेस्ट करवाने होंगे। आपको एक टेस्ट सुबह में (10-11 AM), दूसरा दोपहर में(02-03PM), और तीसरा शाम (07-08 PM)को कराना होगा. और इसके बाद इन तीनों का Average से आपको Accurate रिपोर्ट मिल जाएगी। एक टेस्ट के बाद दूसरे टेस्ट में 04 घंटे का गैप ज़रूर रखें.

अगर आप टेस्टोस्टेरोन का लेवल कम होने की बीमारी से परेशान है तो आपको घबराने की ज़रूरत नही है. आपको अपनी दैनिक दिनचर्या को थोड़ा बदलना होगा:
  • सुबह जल्दी उठें और घूमने जायें और तनावमुक्त रहें.
  • सुबह-शाम EXERCISE करें और पौष्टिक भोजन लें.
  • टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का लेवल चैक करवायें. अगर टेस्टोस्टेरोन का लेवल कम है तो किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर से इलाज करवायें.

अमूल्य आरोग्य ने टेस्टोस्टेरोन लेवल कम होने की 100% प्राकृतिक, आयुर्वेदिक और सुरक्षित ईलाज के लिए किट तैयार की है जिसमें Exercise, योग, मसाज और दवा के उपयोग से 40-50 दिन के अंदर आप इस बीमारी से हमेशा के लिए छुटकारा पा सकते हैं और सेक्स लाइफ का आनंद ले सकते हैं

अगर आपको कोई भी कैसी भी और कितनी भी पुरानी सेक्स समस्या हो और आप अपनी सेक्स लाइफ को Enjoy नही कर पा रहें. आप कभी भी किसी भी समय Dr. CM Garg को Contact करने के लिए 8938848651 (Whatsapp Also) पर पर कॉल कर समय ले सकते हैं या अपनी समस्या के बारें में लिखकर cmgarg@nightfalltreatment.in पर Mail भी कर सकते हैं और समाधान पा सकते हैं.
सेक्स को अच्छे से एंजाय करना आपके और आपके जीवनसाथी के लिए मजबूरी ही नही चाहत भी है और जीवन की खुशियों का और आपसी संतुष्टि का एक कारण भी है